Imagination, what is imagination? Is it thinking out of the box? Yes, Imagination nothing but thinking out of the box. Every person can think but, Is he/she thinking imaginary way or not? Only the question. Knowledge is not a big issue for the imagination. With the help of imagination, we gain a lot of…

via Imagination is a more valuable asset than experience — Buddymantra

Advertisements

There’s no denying the fact that English plays a very important role in our lives today. This is one thing that , kind of , sets up the first impression in any kind of formal meeting, function or whatever the case may be. And definitely, it is a great confidence booster as well. As far…

via Improve your English fluency in 3 easy steps — Buddymantra

The word marriage in itself implies various meaning. It means when two people who have decided to spend their life with each other by accepting all the issues between them. But in Indian society, marriage has turned a burden for the girl’s family as they spend their full savings in order to satisfy the needs…

via Dowry-A pride or a crime — Buddymantra

लौटा दो मुझे मेरी ज़िंदगानी

लौटा दो मुझे मेरी ज़िंदगानी
वो नटखट सा बचपन, वो प्यारी सी वाणी
वो पापा से पिटना, वो माँ की कहानी
वो भाई से लड़ना, दीदी से शैतानी
पड़ोसी के घर में वो कूद के जाना
मौहल्ले के बच्चों पे यूँ खिलखिलाना
दिवाली को हफ़्तों पहले से मनाना
होली पे गाँव के वो चक्कर लगाना
पापा की डाँट से वो बच-बच के जाना
मम्मी का वो चुपके से आके मनाना
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो नटखट सा बचपन वो प्यारी शैतानी
लौटा दो मुझे मेरी ज़िंदगानी ……..
पहला कदम वो स्कूल में रखना ,
पापा के हाथों से वो ऊँगली का छूटना
कक्षा में बैठ के वो आँसू बहाना
लंच ब्रेक में पापा से मिलने की आस लगाना
कूद के उनके गले लग जाना
और काँधे पे गंगा जमुना बहाना
उन्ही काँधों के बल पे वो आगे बढ़ना
कोशिश करते करते वो गिरना संभलना
पापा की मूंछो पे वो गुदगुदी करना
खिलखिलाते हुए माँ की आँचल में छिपना
यही बचपन कितना याद आएगा
मुझे ही नही माँ बाप को रुला जाएगा
बस यादें ही इस घर में रह जाएँगी
जो बुढ़ापे में उनको जीना सिखाएंगी
हर दुनिया की ख़ुशी उनके कदमों में रखना
उनको तुम पर गर्व हो इस काबिल बनना
कभी भी उन्हें तुम न छोड़ के जाना
तुम ही तो हो जीने का सहारा
उन्होंने जो किया तुम उसका एक-तिहाई ही करदो
उनके जीवन को खुशियों से भरदो
इस प्यारे से बचपन की देन वो ही हैं
अब तुम उनके बुढ़ापे को प्यारा करदो
लौटा दो उनको उनकी जिंदगानी
तुम्हारा प्यारा वो बचपन वो प्यारी सी वाणी
वो प्यारा सा बचपन वो प्यारी सी वाणी